ऊंचे भाव पर दालों में ग्राहकी का अभाव के बावजूद मूंग, तुवर में तेजी का रुख
   Date19-Aug-2019

इन्दौर   व्यापार प्रतिनिधि
दालों में थोक एवं खेरची ग्राहकी का अभाव बताया जा रहा है। इधर वर्षा की अधिकता से दलहनों के उत्पादनों पर व्यापार जगत की चिंता बढऩे लगी है। इसी चिंता में लगभग सभी दलहनों पर 100 से 150 रु. की थोक में तेजी हो गई। ग्राहकी कमजोर है, मगर व्यापार जगत कमजोर ग्राहकी पर भी भाव बढ़ा देता है। बाढग़्रस्त क्षेत्रों में सब्जियों का उत्पादन भी प्रभावित हुआ होगा। ऐसे में अनाज के साथ सब्जियों के भी दाम बढ़ सकते हैं। अत: सरकार को इस स्थिति पर अभी से नजर रखनी चाहिए तथा खाद्य संकट या महंगाई बढऩे से रोकने के लिए अभी से पहल शुरू कर देनी चाहिए। आम धारणा यह बन रही है कि कर्नाटक, महाराष्ट्र में अतिवृष्टि से फसल को कुछ न कुछ नुकसान होना तय है। इसके साथ इस वर्ष मूंग की बोवनी गत वर्ष से कम हुई है। इससे भी मनोवृत्ति बदलने लगी है। चने में मांग है, किन्तु बेचवाली का अभाव बताया जाता है। मंडी में अच्छी किस्म के चने का अभाव है। हल्के-पतले चने में बेचवाली अधिक है।
नैफेड ने फिलहाल टेंडर भी बंद कर रखे हैं। महाराष्ट्र के सूखाग्रस्त क्षेत्रों में चने का वितरण किया तो वह भी बाजार में आएगा। डबल डालर की आवक हो रही। हालांकि ग्राहकी विशेष नहीं है, किन्तु स्टाकिस्ट भाव बढ़ाकर तेजी का वातावरण बनाना चाहते हैं। तुअर में आंशिक मजबूती बताई गई। मूंग दाल एवं मोगर में 100 रुपए की वृद्धि की है। मप्र में बाहर आने वाली दलहनों पर मंडी शुल्क लगने लगा है। मप्र के जिन दाल मिलों को आयात लायसेंस मिले हैं व अब मिलों पर दलहन ला रहे हैं। यह अतिरिक्त बोझ और आयातकों को सहना पड़ेगा। तुवर दाल पर भी बढ़ गए बताते हैं। आवक का सीजन नहीं होने के बावजूद चने में मंदी का मुख्य कारण आयातीत स्टाक का भार और डंकी का डर भी है, जिससे ऊंचे व्यापारी ऊंचे भाव पर ही हाथ धो लेना चाहते हैं। व्यापारियों के अनुसार व्यापारियों के अनुसार नई तुवर शीघ्र ही आने को है, इससे अरहर एवं अन्य दाल-दलहन में नरमी का प्रभाव लगातार बनने लगेगा। ऐसी संभावना है। देश में तुवर दाल व प्याज की कीमत बढ़ रखी है, जिससे आम जनमानस सीधे तौर पर महंगाई की मार से जूझने लगी है, जिसको लेकर सरकार अब पूरी तरह से सक्रिय हो गई है। ऐसे में मोदी सरकार की तरफ से दालों और सब्जियों की कीमत को लेकर राज्यों को सचेत रहने का निर्देश दिया है। इसके साथ ही मोदी सरकार की तरफ से राज्यों के खाद्य सचिवों को तुवर दाल और प्याज की राज्यवार मांग देने को कहा है। दरअसल मोदी सरकार के तुवर दाल व प्याज की बढ़ती कीमत को थामने को लेकर जो अहम फैसले लिए गए हैं। जिसके तहत सरकार का मुख्य उद्देश्य राज्यों को पर्याप्त मात्रा में तुवर दाल और प्याज उपलब्ध कराना है, ताकि आम जनमानस को सुविधाजनक पूर्वक उचित कीमत पर अरहर दाल व प्याज की आपूर्ति सुनिश्चित की जा सकेगी। उल्लेखनीय है कि इस समय देश के अधिकांश राज्यों में बारिश व बाढ़ के चलते तुवर और प्याज की आवक अवरुद्ध हो रखी है
। व्यापारियों के अनुसार अगले माह तक नई तुवर आने को है, इससे तुवर एवं अन्य दलहनों में नरमी का प्रभाव लगातार बनने लगेगा, ऐसी संभावना है। हालांकि हाल फिलहाल ऊंचे भाव पर तुवर दाल फूल 8300 से 8400 और मार्केवाली का भाव 7900 रु. रहा। मूंग दाल ऊंचे भाव 7700 से 7800 ऊंचे में 8100 रु. तक और बेस्ट में 8300 रु. का भाव बताया गया है। ऊंचे भाव पर दालों में थोक एवं खेरची ग्राहकी का अभाव बताया जा रहा है। चने में दाल मिलों की मांग से तेजी रही, जिससे गत हफ्ते चना तेज होकर 4350 रु. रहा बताते हैं। वैसे भी एक सीमित मंदी के बाद सटोरिया, व्यापारियों की खरीदी पड़तल की होने से मंडियों में तेजी आने लगती है और यही कुछ स्थिति गत हफ्ते इन्दौर की मंडियों में बनी। सभी दाल दलहन वर्ष 2017 की आलोच्च अवधि से लगभग 1500 से 2000 रु. तक भाव ऊंचे हुए है। महंगाई दुत गति से बढ़ती जा रही है। आवक का सीजन नहीं होने के बावजूद चने में मंदी का मुख्य कारण आयातित स्टाक का भार और डंकी का भी है, जिससे तेजी कर स्टाकिस्ट निकालते बताते जा रहे हैं। हालांकि काबुली चना डालर में आवक भाव उपजने से बढ़ रही बताया जा रहा। भाव 5600 रु. तक जाने के बाद अब इसमें स्थिरता 5700 रु. तक रहा बताते हैं। आज चना में आंशिक नरमी रही, परन्तु मूंग, तुवर में तेजी का रुख रहा। वही भाव अच्चे मिलने से बिकवाली की बढ़ रही है। कामकाज के दौरान तुवर म.प्र. 5400 से 5600, महाराष्ट्र तुवर 6000 से 6100, चना कांटा 4250 से 4300, देशी चना 4200, विशाल चना 4100 से 4200, डालर चना 4400 से 4600, मसूर बेस्ट 4200, मीडियम 3800, मूंग 5200 से 5500, बेस्ट 6000 से 6100, मोटा मूंग 6200 से 6300, उड़द हल्का 3800 से 4000, बेस्ट 5000 से 5200, एवरेज 3000 से 3200 रु.
दालों के थोक भाव में चना दाल चलनसार 5100 रु. 5200, मीडियम 5300 से 5400, बोल्ड 5500 से 5600, मसूर दाल 5100 से 5300, तुवर दाल फूल नई 8000 से 8100, सवा नं. 7400 से 7500, मार्केवाली 8500 से 8600, उड़द दाल 5600 से 5800, बोल्ड 6500 से 6600, उड़द मोगर 6400 से 7400, मूंग दाल 6600 से 6800, बोल्ड 7100 से 7300, मूंग मोगर 7600 से 8100 रु.