सिक्किम में राजनीतिक उलटफेर
   Date14-Aug-2019

नई दिल्ली द्य 13 अगस्त (वा)
सिक्किम में एक बड़े राजनीतिक घटनाक्रम के तहत प्रभावशाली सिक्किम डेमोक्रेटिक फ्रंट (एसडीएफ) के 10 विधायक मंगलवार को भाजपा में शामिल हो गए।
एसडीएफ के 10 विधायकों ने भाजपा महासचिव राम माधव की उपस्थिति में यहां पार्टी की सदस्यता ग्रहण की। एसडीएफ के विधायकों ने भाजपा के कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा से भी मुलाकात की। सिक्किम में विकास का मुद्दा शुरू से ही काफी महत्वपूर्ण रहा है। पूर्वोत्तर के इस राज्य में शुरू से ही क्षेत्रीय दलों का दबदबा रहा है, जहां कांग्रेस और भाजपा जैसे दोनों ही राष्ट्रीय दलों को अपनी जगह बनाने के लिए काफी संघर्ष करना पड़ा है। सिक्किम का रणनीतिक रूप से भी काफी महत्व है, क्योंकि यह चीन, भूटान और नेपाल के काफी समीप है।
इस वर्ष मई में हुए चुनाव में सिक्किम क्रांतिकारी मोर्चा ने 32 सदस्यीय विधानसभा में कुल 17 सीटें हासिल की थीं, जो कि बहुमत के आंकड़े से एक सीट ज्यादा थी। श्री चामलिंग के नेतृत्व वाली एसडीएफ को 15 सीटें ही मिल पाई थीं। सिक्किम क्रांतिकारी मोर्चा का गठन वर्ष 2013 में हुआ था। एसडीएफ के 15 में से 10 विधायकों के भाजपा में शामिल हो जाने से केन्द्र की सत्तारूढ़ पार्टी के पूर्वोत्तर में चलाए जा रहे अभियान को काफी मजबूती मिलेगी।