मप्र के 10 बड़े बांध लबालब
   Date11-Aug-2019

भोपाल द्य 10 अगस्त (वा)
मध्यप्रदेश में अधिकांश स्थलों पर हो रही बारिश के चलते सभी प्रमुख नदियां एवं बरसाती नाले उफान पर हैं, 10 बड़े बांध पानी से लबालब हो गए हैं और इनसे अतिरिक्त पानी की निकासी की जा रही है।
जल संसाधन विभाग के प्रवक्ता के अनुसार प्रदेश के 28 बड़े बांधों में से दस बांध पानी से लबालब हो गए हैं और इन बांधों से कल से पानी छोड़ा जा रहा है, जो आज भी जारी है। जबलपुर जिले में स्थित बरगी बांध के 21 में से 15 गेट खोलकर कल दोपहर से पानी की निकासी की जा रही है, आज दोपहर साढ़े बारह बजे तक कुल एक लाख 15 हजार 303़ 47 क्यूसेक पानी छोड़ा जा चुका है। इससे नर्मदा नदी नरसिंहपुर, होशंगाबाद, और खरगोन में खतरे के निशान से ऊपर बह रही है।
इसी प्रकार रेतम बैराज (मंदसौर) से दोपहर तक कुल 70630 क्यूसेक, राजगढ जिले के मोहनपुरा बांध से कुल 26274.36
क्यूसेक, कुंडालिया बांध से कुल 77693 क्यूसेक, झाबुआ जिले के माही बांध से 8 गेट खोलकर कुल 66462.83 क्यूसेक, अशोकनगर जिले के राजघाट बांध के 18 गेट खोलकर कुल 16308.47 क्यूसेक, मंदसौर जिले के काका साहब गाडगिल जलाशय से नौ में से 7 गेट खोलकर 15715.17 क्यूसेक, खंडवा जिले के सुखता बांध से दो गेट खोलकर 2945.27 क्यूसेक, रतलाम जिले के ढोलावाड़ बांध से 2204.36 क्यूसेक और गुना जिले के गोपीकृष्ण बांध से दोपहर तक कुल 999.77 क्यूसेक पानी छोड़ा जा चुका है। इन जलाशयों से कल दोपहर से अतिरिक्त पानी की निकासी के कारण पार्वती नदी गुना में खतरे के निशान से ऊपर, टमस नदी सतना जिले के मैहर में, बेतवा नदी रायसेन में, केन नदी पन्ना में तथा चंबल नदी नागदा में खतरे के निशान से ऊपर बह रही है।