नया मध्यप्रदेश बनाना और जनता की अपेक्षाएं पूरा करना लक्ष्य हो - कमलनाथ
   Date07-Jul-2019

भोपाल द्य 6 जुलाई (वा)
मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ ने आज कहा कि भविष्य का मध्यप्रदेश बनाने और जनता की अपेक्षाएं पूरा करना जनप्रतिनिधियों का लक्ष्य होना चाहिए एवं प्रजातंत्र के मंदिर में इसी कर्तव्य का पालन करना चाहिए।
श्री कमलनाथ आज मध्यप्रदेश विधानसभा में नवनिर्वाचित विधायकों के प्रबोधन कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे। इस मौके पर मध्यप्रदेश विधानसभा के अध्यक्ष नर्मदाप्रसाद प्रजापति, विधानसभा उपाध्यक्ष हिना कांवरे, नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव, संसदीय कार्य मंत्री डॉ. गोविंद सिंह एवं लोकसभा महासचिव स्नेहलता श्रीवास्तव उपस्थित थीं।
आधिकारिक जानकारी के मुताबिक मुख्यमंत्री श्री कमलनाथ ने कहा कि 40 साल पहले जब वे पहली बार लोकसभा सदस्य चुने गए थे, तब पहली बार संसदीय ज्ञान की पहली सीढ़ी ऐसे ही प्रबोधन कार्यक्रम के जरिए चढ़ी थी। मुख्यमंत्री ने कहा कि संविधान ने विधायिका के कर्तव्यों और अधिकारों को बेहतर ढंग से परिभाषित किया है। हमें संविधान की आत्मा को आत्मसात कर अपने देश, प्रदेश और क्षेत्र की जनता की अपेक्षाओं को पूरा करना है। श्री कमलनाथ ने कहा कि समय के साथ राजनीति बदली है। पुरानी दुनिया से अलग नई पीढ़ी की दुनिया हमारे सामने है। इसके परिवर्तनों को हमें देखना-समझना है। नई पीढ़ी हमारा सम्मान करे। विधायिका और कार्यपालिका के साथ नई पीढ़ी को कैसे जोड़े और उनकी अपेक्षाओं को कैसे पूरा करे, यह हमारे सामने आज सबसे बड़ी चुनौती है।
मुख्यमंत्री ने कहा कि देश में हो रहे परिवर्तनों के अनुरूप हमें मध्यप्रदेश को बनाना है। एक जिम्मेदार प्रतिनिधि को संसदीय परंपराओं, नियम प्रक्रियाओं का गहन अध्ययन करना चाहिए। इससे वह विधायी सदनों में जनता और प्रदेश हित में बेहतर भूमिका निभा सकेगा। कब बोलना, कब चुप रहना है, सार्थक रूप से अपनी बात कहना है, इस पर विशेष ध्यान देने की जरूरत है।