ताप्ती उफान पर ,हथनूर बांध के 21 द्वार खोले
   Date31-Jul-2019
 


 स्वदेश समाचार
मौसम विभाग ने अगले 48 घंटों के दौरान मध्यप्रदेश में कई स्थानों पर फिर भारी बारिश होने की चेतावनी दी है। उधर बुरहानपुर जिले में बारिश का दौर जारी है। लगातार बारिश से नदी-नाले उफान पर है। बुरहानपुर में ताप्ती नदी का जलस्तर उतरने के बाद भी नदी खतरे के निशान पर बह रही है।
बुरहानपुर में नदी के उफान पर रहने से मध्यप्रदेश महाराष्ट्र सीमा पर बने हथनूर बांध लबालब भर गया है। नदी में बाढ़ के हालात को देखते हुए बांध के 41 में से 21 गेट खोल दिए गए है। बांध से प्रति सेकंड 1140 क्यूबिक मीटर पानी की निकासी की जा रही है। पिछली गर्मी में नदी के सूखने पर बांध भी सूख गया और पूरे बांध में गाद नजर आ रही थी। बांध की पूर्ण भराव क्षमता 214 मीटर है। ताप्ती नदी खतरे के निशान के समीप है। ताप्ती नदी की बाढ़ से गुजरात के सूरत को अधिक खतरा है। मध्यप्रदेश के बैतूल जिले के मुलताई से निकली ताप्ती नदी महाराष्ट्र से होते हुए गुजरात में खंभात की खाड़ी के समीप अरब सागर में मिलती है। उधर मौसम विज्ञान केन्द्र भोपाल के वरिष्ठ वैज्ञानिक एसके डे ने बताया कि अभी मध्यप्रदेश में मानसून सक्रिय है तथा वायुमंडल में 12 किलोमीटर ऊपर तक नमी बनी हुई है। इसी के साथ बंगाल की खाड़ी पर भी कम दबाव का क्षेत्र फिर बन रहा है। उन्होंने बताया कि दक्षिण गुजरात पर भी चक्रवात का घेरा (साइक्लोनिक सर्कुलेशन) बन गया है, जिससे गुजरात के साथ-साथ सीमावर्ती मध्यप्रदेश में भी बारिश हो रही है। इसी के साथ उत्तरी मध्यप्रदेश में भी कम दबाव का क्षेत्र विद्यमान है।