रोहित-राहुल की साझेदारी से भारत सेमीफाइनल में
   Date03-Jul-2019

बर्मिंघम द्य 2 जुलाई (वा)।
हिटमैन रोहित शर्मा (104 रन) के रिकार्ड शतक और उनकी लोकेश राहुल (77) के साथ पहले विकेट के लिए 180 रन की जबरदस्त साझेदारी तथा आलराउंडर हार्दिक पांड्या (60 रन पर तीन विकेट) और जसप्रीत बुमराह (55 रन पर चार विकेट) की निर्णायक गेंदबाजी की बदौलत भारत ने बंगलादेश को मंगलवार को 28 रन से हराकर आईसीसी विश्वकप के सेमीफाइनल में प्रवेश कर लिया।
भारत ने इस महत्वपूर्ण मुकाबले में 50 ओवर में नौ विकेट पर 314 रन का चुनौतीपूर्ण स्कोर बनाने के बाद बंगलादेश की चुनौती को 48 ओवर में 286 रन पर थाम लिया। भारत की आठ मैचों में यह छठी जीत है और वह 13 अंकों के साथ सेमीफाइनल में पहुंच गया है। भारत का यह लगातार तीसरा सेमीफाइनल है। उसने 2011 में खिताब जीता था जबकि 2015 में वह सेमीफाइनल तक पहुंचा था।
बंगलादेश की आठ मैचों में यह चौथी हार है और इस विश्व कप में उसका सफर समाप्त समाप्त हो गया है। बंगलादेश का एक मैच बाकी है लेकिन उसकी उम्मीदें समाप्त हो चुकी हैं। पांड्या ने 10 ओवर में 60 रन पर तीन विकेट, जसप्रीत बुमराह ने 55 रन पर चार विकेट तथा भुवनेश्वर कुमार, मोहम्मद शमी और युजवेंद्र चहल ने एक-एक विकेट लेकर जीत भारत की झोली में डाल दी।
भारतीय कप्तान विराट कोहली ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करने का फैसला किया। रोहित और राहुल ने ओपनिंग साझेदारी में 29.2 ओवर में 180 रन जोड़े। रोहित ने मात्र 92 गेंदों में सात चौकों और पांच छक्कों की मदद से 104 रन की बेहतरीन पारी खेली। रोहित का टूर्नामेंट में यह लगातार दूसरा और कुल चौथा शतक है। इसके साथ ही उन्होंने एक विश्वकप में श्रीलंका के कुमार संगकारा के चार शतक बनाने के विश्व रिकार्ड की बराबरी कर ली। रोहित का यह 26वां वनडे शतक था। राहुल ने भी अपनी लय दिखाई और पिछले मैच की विफलता को पीछे छोड़ते हुये 92 गेंदों में छह चौकों और एक छक्के की मदद से 77 रन बनाये। इस साझेदारी के समय लग रहा था कि भारत 350 के आसपास का स्कोर बनायेगा लेकिन बंगलादेश के गेंदबाज़ों ने इस साझेदारी के टूटने के बाद शानदार वापसी की। भारत अंत में 314 तक ही पहुंच सका। पिछले पांच मैचों में लगातार अर्धशतक बनाने वाले कप्तान विराट कोहली इस बार 26 रन बनाकर आउट हो गए। उन्होंने 27 गेंदों की पारी में तीन चौके लगाये। ऑलराउंडर हार्दिक पांड्या खाता खोले बिना आउट हुये। भारत ने अपना पहला विकेट 180, दूसरा 195 और तीसरा तथा चौथा 237 के स्कोर पर गंवाया। रोहित को सौम्य सरकार, राहुल को रूबैल हुसैन, विराट को मुस्ताफिजुर रहमान और पांड्या को मुस्ताफिजुर ने आउट किया। अपना दूसरा विश्वकप मैच खेल रहे युवा बल्लेबाज़ रिषभ पंत ने आक्रामक अंदाज़ दिखाया और 41 गेंदों पर छह चौकों तथा एक छक्के की मदद से 48 रन की पारी खेली। पंत ने धोनी के साथ पांचवें विकेट के लिये 40 रन जोड़े।
पंत को शाकिब अल हसन ने मोसाद्दक हुसैन के हाथों कैच कराया।
पंत का विकेट 277 के स्कोर पर गिरा। इस मैच में केदार जाधव की जगह एकादश में शामिल किये गये दिनेश कार्तिक इस मौके का फायदा नहीं उठा सके और नौ गेंदों में आठ रन बनाकर मुस्ताफिजुर का तीसरा शिकार बन गये। कार्तिक का विकेट 298 के स्कोर पर गिरा। विकेटकीपर महेंद्र सिंह धोनी ने एक छोर पर रन बनाने का सिलसिला जारी रखा और कुछ अच्छी बांउड्री लगायीं। उन्होंने 49वें ओवर में मोहम्मद सैफद्दीन की गेंदों पर दो चौके मारे और आखिरी गेंद पर एक रन लेकर अंतिम ओवर के लिये स्ट्राइक अपने पास रखी। धोनी आखिरी ओवर की पहली दो गेंद डाट खेलने के बाद तीसरी गेंद पर ऊंचा कैच उछाल बैठे। धोनी का विकेट भी बायें हाथ के तेज़ गेंदबाज़ मुस्ताफिजर के हिस्से में गया। धोनी ने 33 गेंदों में चार चौकों की मदद से 35 रन बनाये। भुवनेश्वर कुमार पांचवीं गेंद पर रनआउट हुये हालांकि यह गेंद वाइड थी। मुस्ताफिजुर ने आखिरी गेंद पर मोहम्मद शमी को बोल्ड कर अपने पांच विकेट पूरे कर लिए। भारत ने अंतिम ओवर में तीन विकेट गंवाए। मुस्ताफिजुर ने 10 ओवर में 59 रन देकर पांच विकेट लिए, जबकि शाकिब अल हसन, रूबेल हुसैन और सौम्य सरकार ने क्रमश: 41,48 और 33 रन देकर एक एक विकेट लिया।