सोने-चांदी में तेजी से ऊंची लागत से फीकी पड़ी आभूषणों की बिक्री
   Date19-Jul-2019

इन्दौर ठ्ठ व्यापार प्रतिनिधि
स्थानीय सराफा बाजार में सहित समस्त घरेलू सराफा बाजारों में बहुमूल्य धातुएं सोना-चांदी के भाव लगातार तेजी का वातावरण बना हुआ है। घरेलू सहित कामेक्स वायदों में तेजी के कारण हाजर भाव तेज चल रहे हैं। सोना-चांदी में तेजी के बीच ग्राहकी लगातार कमजोर बताई जाती है। जानकारों के अनुसार लगातार तेजी के बीच दूसरी ओर कच्चे माल की बिक्री ग्रामीण क्षेत्रों से बढ़ी है। फिलहाल किसानी क्षेत्रों में नए माल की मांग की उम्मीद कम है, क्योंकि मानसूनी की बेरूखी से बोई गई फसलें चौपट हो रही है। वही दुबारा बोवनी के लिए किसानों को पुन: रुपया चाहिए, जिसके कारण तेजी वाले भाव पर उनकी बिकवाली बढ़ सकती है। लेकिन वायदे में जारी मजबूती के कारण फिलहाल भाव ऊंचे बने हुए है। चांदी वायदे में उछाल के साथ हाजर में कमजोर बिकवाली से रूझान तेजी का है। परंतु दोनों धातुओं में तेजी और ऊंची लागत से फीकी पड़ रही है। आभूषणों, गहनों की मांग की चमक। वहीं बजट में सोने का आयात शुल्क 12 फीसदी कर दिया है। साथ ही देश के सराफा कारोबारी समस्याओं में फंसे है। सराफा बाजार की मुश्किल डगर में पैन की अनिवार्यता, नगदी में लेनदेन पर रोक, नोटबंदी और जीएसटी बाधा बनी है। हालमार्किंग को अनिवार्य किया जा रहा है। इसके बिना आभूषणों की बिक्री नहीं हो पाएगी। तमाम कारणों से सराफा बाजार में गहनों, आभूषणों की बिक्री काफी फीकी है। बड़े-बड़े शोरूम की सुस्त व सूने पड़े हुए है।