आम चुनाव में पराजय विपक्ष की कर्मठता का आईना
   Date12-Jul-2019

प्रदीप सिंह
लो कसभा चुनाव के नतीजों के बाद राजनीतिक और बौद्धिक समाज के एक छोटे से तबके ने तो यह अहसास कर लिया कि वह अपनी ही बनाई दुनिया में रह रहा था और इस कारण जमीनी वास्तविकता से कट गया था, लेकिन इसी तबके का एक हिस्सा अभी भी प्रचंड जनादेश को स्वीकार करने की बजाय उसके अस्वीकार के तर्क खोज रहा है। उसकी ओर से तरह-तरह के तर्क दिए जा रहे हैं। सबका सार यह है कि मोदी भले ही फिर से प्रधानमंत्री बन गए हों, लेकिन यह उनकी जीत नहीं है। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के अनुसार मोदी झूठ और नफरत से जीते हैं। मशहूर अर्थशास्त्री अमत्र्यसेन से लेकर शरद पवार तक इस जीत को कमतर बताने की होड़ में शामिल हैं। वास्तव में जो आईना उन्हें सच्चाई दिखा रहा है, वे उस आईने को ही तोडऩा चाहते हैं।
पिछले कुछ सालों में भारत में अमत्र्यसेन की पहचान नोबेल पुरस्कार विजेता अर्थशास्त्री से ज्यादा एक राजनीतिक कमेंटेटर की बनी है। वे ऐसे राजनीतिक पंडितों के अगुआ बन गए हैं, जिनकी यह दृढ़ मान्यता है कि भाजपा और मोदी कुछ अच्छा कर ही नहीं सकते। यदि मोदी कुछ ऐसा करते हैं, जिसकी तारीफ हो रही हो तो उसमें मीनमेख निकालने की कोशिश करो। उस पर अविश्वास जताओ। मोदी की प्रशंसा में एक भी शब्द बोलना ऐसे लोगों के लिए कुफ्र है। अर्थशास्त्र के लिए नोबेल पुरस्कार पाने वाले रिचर्ड थेलर कहते हैं कि लोगों की यह स्वाभाविक प्रवृत्ति होती है कि वे अपनी बात को प्रमाणित करने वाले ही साक्ष्य खोजते हैं। इसके विपरीत मिलने वाले तथ्यों पर वे ध्यान नहीं देते। उन्होंने इस प्रवृत्ति को संपुष्टि पूर्वाग्रह (कन्फर्मेशन बायस) कहा है। अमत्र्यसेन के मुताबिक मोदी की जीत हिन्दू राष्ट्रवाद की जीत है, पर हिन्दू राष्ट्रवाद ने सिर्फ सत्ता हासिल की है। यह उसकी वैचारिक जीत नहीं है। सेन जैसे लोगों का मानना है कि उनका आइडिया ऑफ इण्डिया अक्षुण्ण है। ऐसे लोगों की यह भी धारणा है कि भाजपा ने पैसे, मीडिया और तकनीक की ताकत से लोगों को भ्रमित कर दिया। शरद पवार जैसे कारोबारी नेता भी हैं जो मतदाता की आवाज सुनने-समझने के बजाय ईवीएम पर शोध कराने जा रहे हैं। यह बात और है कि उनके भतीजे यह कह रहे हैं कि ये सब बेकार की बात है। उधर असदुद्दीन ओवैसी इस नतीजे पर पहुँचे हैं कि भाजपा ने ईवीएम नहीं, हिन्दू मस्तिष्क में सेंध लगाकर चुनाव जीता।
वामपंथी उदारवादी बुद्धिजीवी यह मानकर चलते आए हैं कि इण्डिया का आइडिया एक ही हो सकता है। वे भारत की सबसे बड़ी ताकत विविधता को भी नकारते हैं। उन्हें समझ में ही नहीं आ रहा कि इस विचार का राजनीतिक लाभ मिलना खत्म हो चुका है। विचारों में समय और देश काल की परिस्थिति के अनुसार बदलाव न आए तो वे ठहरे हुए पानी की ही तरह सड़ जाते हैं। सवाल है कि यह बदलाव आया कैसे! दरअसल यह बदलाव छल में छेद करने से आया। प्रधानमंत्री मोदी ने संसद के सेण्ट्रल हॉल में अपने भाषण में कहा कि लम्बे समय से गरीबों से छल हो रहा था। उसमें हमने छेद कर दिया। वह यहीं नहीं रुके। उन्होंने आगे कहा कि अल्पसंख्यकों के साथ भी छल हो रहा है। इसमें भी छेद करने की जरूरत है। उनकी इन दोनों बातों से जाहिर है। कि उन्हें पता है कि समस्या क्या है और उसका समाधान क्या है। उन्होंने गरीबों के साथ हो रहे छल में छेद करके जाति की राजनीति पर सत्ता भोगने वालों के लिए स्थायी वनवास का इंतजाम कर दिया है। मुसलमानों के साथ हो रहे छल में छेद से धर्मनिरपेक्षता की आड़ में चल रही मुस्लिम तुष्टिकरण की साम्प्रदायिक राजनीति में छेद करना उनका अगला लक्ष्य है।
पिछले सत्तर सालों से देश में एक अजीब तरह का विमर्श चल रहा था। मुस्लिम तुष्टिकरण की राजनीति धर्मनिरपेक्षता का पर्यायवाची बन गई थी। जाति की राजनीति को सामाजिक न्याय की राजनीति का नाम दिया गया, पर हिन्दू की बात करना साम्प्रदायिकता की राजनीति माना गया। प्रधानमंत्री ने दो तरह के छल का तो उल्लेख किया, लेकिन उन्होंने शायद जान-बूझकर तीसरे छल की बात नहीं कही। यह वह छल है जो इस देश के हिन्दुओं के साथ हो रहा था। हो सकता है कि उन्होंने इस छल का जिक्र इसलिए भी न किया हो कि इस छल में छेद करने का आधार लेफ्ट लिबरल तबके ने अपनी दोगली नीति से तैयार किया है। हिन्दुओं को यह छल समझ में तो आ रहा था, पर ऐसा कोई नेता नहीं मिल रहा था, जिस पर वे भरोसा कर सकें। इस बात को अखलाक की हत्या के मामले पर उठे तूफान से समझा जा सकता है। अखलाक की हत्या के बाद देश में अवार्ड वापसी का जो दौर शुरू हुआ, उसने ऐसा माहौल बनाया, मानो मोदी और भाजपा से ज्यादा असहिष्णु दुनिया में कोई नहीं है। हिन्दुओं पर इस घटना का असर मुसलमानों से ज्यादा हुआ। अखलाक एक व्यक्ति था, लेकिन उसकी हत्या को देश के पूरे मुस्लिम समुदाय पर आक्रमण के रूप में पेश किया गया। उसकी मौत से ज्यादा उसका धर्म महत्वपूर्ण हो गया। हिन्दुओं की समझ में नहीं आया कि यह हो क्या रहा है ? कश्मीर में सैकड़ों हिन्दू मारे गए, लाखों निकाले गये, उनके घर जला दिए गये और उनकी महिलाओं के साथ दुष्कर्म हुआ, लेकिन किसी ने नहीं कहा कि यह हिन्दुओं पर हमला है। सच तो यह है कि उन्हें हिन्दू भी नहीं कहा गया। कहा यह गया कि वे कश्मीरी पण्डित हैं। जैसे कश्मीरी पंडित किसी और धर्म के मानने वाले हों। लाखों हिन्दुओं के साथ इतना सब हो तो वह 'हुआ तो हुआ।Ó यह कौन सा प्राकृतिक न्याय है? कौन सी संवैधानिक मान्यता है? पर संपुष्टि पूर्वाग्रह की प्रवृत्ति वाले इसे कैसे और क्यों समझेंगे? आखिर यह एक तथ्य है कि रह-रहकर यह साबित करने की भी कोशिश हुई कि कश्मीरी पंडित अपने पलायन के लिए खुद ही दोषी हैं। 2019 का जनादेश लेफ्ट लिबरल समूह और उनके सहारे और समर्थन से की जाने वाली राजनीति का तिरस्कार है। पश्चिम बंगाल में ममता बनर्जी को इस तिरस्कार की पहली किस्त मिली है। दूसरी साल 2021 में मिल सकती है। अब एक नया शिगूफा चला है कि विपक्ष बहुत कमजोर हो गया है और यह स्थिति जनतंत्र के लिए बहुत बड़ा खतरा है। ये तर्कवीर तब कहाँ थे, जब आजादी के तीस साल तक लोकसभा में प्रतिपक्ष का कोई नेता ही नहीं था। इन लोगों ने विपक्ष और जनतंत्र के कमजोर होने का मुद्दा 1684 में क्यों नहीं उठाया?
संसद में विपक्ष संख्या बल से नहीं, अपने प्रभावी दखल और सड़क पर संघर्ष की क्षमता से ताकतवर बनता है। पश्चिम बंगाल विधानसभा में भाजपा के केवल छह सदस्य हैं, लेकिन वे संसद से सड़क तक सबसे ताकतवर विपक्षी हैं। राहुल गांधी, अखिलेश, तेजस्वी, मायावती, शरद पवार, कुमारस्वामी एवं चन्द्रबाबू नायडू जैसे नेताओं को जितना जल्दी समझ में आ जाय तो बेहतर कि यह जनादेश मोदी की राजनीति में विश्वास और उनकी राजनीति में अविश्वास का है।
(लेखक वरिष्ठ पत्रकार)