विकासशून्य और निराशाजनक बजट- तोमर
   Date10-Jul-2019

 
केंद्रीय कृषि, पंचायतराज और ग्रामीण विकास मंत्री नरेंद्रसिंह तोमर ने कहा कि बजट आने वाले वर्ष का प्रतिबिम्ब होता है, पर मध्यप्रदेश सरकार का बजट विकासशून्य और दिग्भ्रमित बजट है। इससे प्रदेश के विकास की रफ्तार प्रभावित होगी। इस सरकार ने इंफ्रास्ट्रक्चर से लेकर सड़क-बिजली और पानी के लिए भी ऊंट के मुह में जीरा के समान धनराशि दी है। सारी कल्याणकारी और जनहितैषी योजनाओं को बंद कर दिया गया है। प्रदेश के बड़े निर्धन वर्ग के हितों पर कुठाराघात किया गया है। जिन किसानों को कर्जमाफी के झूठे सपने दिखाकर कांग्रेस सत्ता में आई, उनके लिए भी मात्र 8 हजार करोड़ का बजट रखा गया है, जबकि हकीकत में किसान कर्जमाफी के लिए पांच गुना अधिक प्रावधान किया जाना चाहिए था।
अल्पसंख्यक हितैषी है बजट - पिछड़ा वर्ग एवं अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री आरिफ अकील ने प्रदेश के बजट वर्ष 2019-20 को अल्पसंख्यक हितैषी बताया है। उन्होंने कहा कि बजट में हज कमेटी की अनुदान राशि 50 लाख से बढ़ाकर एक करोड़ 80 लाख, वक्फ बोर्ड की अनुदान राशि एक करोड़ 20 लाख से बढ़ाकर 3 करोड़ 25 लाख और मसाजिद कमेटी की अनुदान राशि एक करोड़ 33 लाख से बढ़ाकर 3 करोड़ 75 लाख की गई है।