मेरे लिए केरल वाराणसी की तरह रहेगा- मोदी
   Date09-Jun-2019
गुरुवायूर द्य 8 जून (वा) प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने शनि
वार को यहां भगवान श्रीकृष्ण मंदिर में पूजा और विशेष तुलाभारम अनुष्ठान (कमल के फूलों से तौलना) किया। दूसरी बार प्रधानमंत्री बनने के बाद पहले आमसभा को संबोधित करते हुए श्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि पिछले चुनाव में खाता नहीं खुलने के बावूजद उनकी सरकार वाराणसी संसदीय क्षेत्र की तरह केरल की हरसंभव मदद करेगी।
श्री मोदी यहां 10 बजकर 15 मिनट पर गुरुवायूर मंदिर में पहुंचे और उन्होंने केरल के पारंपरिक परिधान 'मुंडुÓ (धोती) और 'अंगवस्त्रमÓ पहनकर पूजा अर्चना की। श्री मोदी ने गुरुवायूर मंदिर में तुलाभरम करने की इच्छा व्यक्त की थी। इसलिए मंदिर प्रशासन ने इसके लिए तमिलनाडु से 100 किलो कमल के फूल मंगवाए थे। प्रधानमंत्री ने पारंपरिक परिधान पहनकर पूजा अर्चना की। मंदिर में 'तुलाभारमÓ पूजन परंपरा के तहत श्री मोदी को कमल के फूलों से तौला गया। प्रधानमंत्री भगवान श्रीकृष्ण की मूर्ति के सामने कुछ मिनटों तक खड़े रहे और इसके बाद गणपति और भगवती मंदिर गए। उन्होंने मंदिर में देवी-देवताओं पर घी, फल और फूल चढ़ाए। मंदिर के मुख्य पुजारी वासुदेवन नम्बोदरी ने श्री मोदी को प्रसाद दिया। श्री मोदी मंदिर में करीब 30 मिनट तक रहे। मंदिर प्रशासन के अनुसार प्रधानमंत्री ने पूजा के लिए लगभग 40 हजार रुपए दिए। श्री मोदी ने यहां श्रीकृष्ण मंदिर में पूजा-अर्चना करने के बाद अभिनंदन समारोह को संबोधित करते हुए कहा मैं जानता हूं कि पिछले चुनाव केरल में हमारा खाता नहीं खुला लेकिन मैं इसको अपनी सरकार की ओर से हरसंभव सहायता देने के मामले में अपने वाराणसी संसदीय क्षेत्र की तरह ख्याल रखूंगा। प्रधानमंत्री ने कहा कि राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन सरकार पूरे देश तथा 130 करोड़ में से हरेक व्यक्ति की प्रगति का प्रयास करेगी। उन्होंने पार्टी (भारतीय जनता पार्टी) को सत्ता में लाने के लिए तथा वोट नहीं देने वाले दोनों को धन्यवाद दिया। उन्होंने कहा कि उनकी सरकार लोगों की विचारधारा और राजनीतिक सोच से हटकर सभी के विकास के लिए प्रतिबद्ध है। चुनाव समाप्त होने और नई सरकार के सत्ता में आने के बाद भाजपा के खिलाफ में वोट डालने वालों के साथ कोई भेदभाव नहीं होगा। उन्होंने कहा हमारी सरकार हमें वोट देने वालों या खिलाफ में वोट डालने वालों को आंककर काम नहीं करती।