एशियाई टीमों के खिलाफ जीत की हैट्रिक लगाने उतरेगी न्यूजीलैंड
   Date08-Jun-2019
टांटन ठ्ठ 7 जून (वा)
आईसीसी विश्वकप में जबरदस्त फार्म में चल रही न्यूजीलैंड क्रिकेट टीम एशियाई टीमों के खिलाफ अपने शुरूआती दोनों मुकाबले जीत चुकी है और शनिवार को अफगानिस्तान के खिलाफ अपनी लय बरकरार रखते हुये एशियाई टीमों के खिलाफ जीत की हैट्रिक के लक्ष्य के साथ उतरेगी।
न्यूजीलैंड ने श्रीलंका के खिलाफ पहला मुकाबला 10 विकेट से एकतरफा अंदाज़ में जीता था जबकि दूसरे मुकाबले में बंगलादेश से मिली कड़ी चुनौती के बाद उसने दो विकेट से जीत दर्ज की थी। उसके सामने अब टांटन में तीसरी एशियाई टीम अफगानिस्तान होगी जो आईसीसी विश्वकप में दूसरी बार खेल रही है और शुरूआती दोनों मैचों में आस्ट्रेलिया से सात विकेट और श्रीलंका से 34 रन से पराजय झेल चुकी है। अफगानिस्तान के पास इस टूर्नामेंट में खोने के लिये कुछ नहीं है लेकिन बड़ी टीमों के खिलाफ अच्छा प्रदर्शन उसके भविष्य और स्थिति के लिये महत्वपूर्ण है। अभ्यास मैचों में 1992 की चैंपियन पाकिस्तान को उलटफेर बनाने के बाद उससे उम्मीदें काफी बढ़ गयी हैं और वह भी विश्वकप में अपनी पहली जीत के लिये पूरा जोर लगायेगी। ऐसे में न्यूजीलैंड के लिये उसे हल्के में लेना भारी पड़ सकता है।
केन विलियम्सन की कप्तानी वाली कीवी टीम बंगलादेश के खिलाफ कड़े संघर्ष में जीती थी और वह भी उलटफेर से बचना चाहेगी। बंगलादेश ने 244 के छोटे स्कोर का बचाव करने के लिये भी कड़ा संघर्ष दिखाया था और न्यूजीलैंड ने 238 के स्कोर तक ही अपने आठ विकेट गंवा दिये। कीवी टीम के पास मार्टिन गुप्तिल, कॉलिन मुनरो, मध्यक्रम में विलियम्सन और रॉस टेलर के रूप में बढिय़ा बल्लेबाज़ हैं। टेलर ने पिछले मैच में 82 रन की मैच विजयी पारी खेली थी, लेकिन टीम को निचले क्रम में भी मजबूत बल्लेबाज़ों की ज़रूरत है। जेम्स नीशम, कॉलिन डी ग्रैंडहोम और टॉम लाथम के लिये ऐसे में अधिक जिम्मेदारी होगी। दूसरी ओर अफगानिस्तान के ओपनर और विकेटकीपर मोहम्मद शहज़ाद चोट के कारण टूर्नामेंट से हट चुके हैं जिससे अफगानिस्तान की बल्लेबाजी को गहरा झटका लगा है। शहजाद टीम के अनुभवी बल्लेबाज हैं और उनके बाहर होने से टीम की बल्लेबाजी कमजोर होगी। ऐसे में हज़मतुल्लाह जजई, रहमत शाह, हशमतुल्लाह शाहिदी को अपने प्रदर्शन में सुधार लाना होगा जबकि निचले क्रम में नजीबुल्लाह जादरान, कप्तान गुलबदिन नायब और राशिद खान को अच्छे स्कोर करने होंगे। पिछले मुकाबलों में टीम का बल्लेबाज़ी क्रम कमज़ोर कड़ी साबित हुआ है। हालांकि टीम का गेंदबाज़ी क्रम निश्चित ही काफी मज़बूत है और टीम के स्पिनर मोहम्मद नबी, राशिद, मुजीब उर रहमान निरंतर अच्छा प्रदर्शन कर रहे हैं। श्रीलंका जैसी अनुभवी टीम को वर्षा बाधित मैच में 201 पर ऑल आउट करने में इनकी अहम भूमिका रही थी। राशिद ने 17 रन पर दो विकेट और मोहम्मद नबी ने 30 रन पर चार विकेट की बढिय़ा गेंदबाजी की थी और न्यूजीलैंड को बड़े स्कोर से रोकने में इनकी एक बार फिर अहम भूमिका होगी।
बंगलादेश और इंग्लैंड पर वापसी का दबाव
कार्डिफ। आईसीसी विश्वकप की मेज़बान और खिताब की प्रबल दावेदार इंग्लैंड तथा टूर्नामेंट में बड़े उलटफेर के साथ शुरूआत करने के बाद छुपी रूस्तम मानी जा रही बंगलादेश अपने अपने पिछले मुकाबले हार चुकी हैं और शनिवार को आमने सामने होंगी जहां दोनों का लक्ष्य वापसी कर लय हासिल करना होगा। इंग्लैंड को अपनी चुनौतीपूर्ण पिचों का माहिर माना जा रहा है और टूर्नामेंट में भी वह प्रबल दावेदार के तौर पर उतरी हैं, लेकिन विश्वकप से पहले लगातार अपने 11 वनडे मुकाबले हार चुकी पाकिस्तान जैसी कमजोर टीम से पिछले मैच में 14 रन से हारने के बाद उसकी दावेदारी पर सवाल उठ रहे हैं। आईसीसी वनडे विश्वकप के इतिहास में अपने पहले खिताब के लिये लड़ रही इंग्लिश टीम को आगे टूर्नामेंट में अपनी लय बनाये रखने के लिये हर हाल में जीत दर्ज करने का दबाव रहेगा।
दूसरी ओर दक्षिण अफ्रीका जैसी मजबूत टीम को पिछले मैच में 21 रन से हराकर सभी को चौंका चुकी बंगलादेशी टीम को भी पिछले मैच में कड़ा संघर्ष करने के बावजूद न्यूजीलैंड से दो विकेट से हार झेलनी पड़ी थी और उसे भी अपना अभियान आगे सफलतापूर्वक बढ़ाने के लिये जीत की दरकार होगी। यदि वह इंग्लैंड जैसी मजबूत टीम को हरा पाती है तो सेमीफाइनल की राह कुछ आसान होगी।