भाजपा नेता ने ममता को भेजा रामचरितमानस, कहा- पढ़ें, समझ न आए तो फोन करें
   Date03-Jun-2019
नई दिल्ली द्य 2 जून (वा)
पश्चिम बंगाल में 'जय श्रीरामÓ का नारा लगाने पर विवाद छिड़ा हुआ है। कथित रूप से जय श्रीराम का नारा लगाने से पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी नाराज हो गई थीं। नारा लगाने पर कुछ लोगों को हिरासत में भी ले लिया गया था। इसी बीच भाजपा नेता अश्विनी उपाध्याय ने पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को भगवान राम के जीवन का परिचय कराने वाले एक धर्मग्रंथ 'रामचरितमानसÓ की प्रति भेजी है। यह अनुवाद सहित है।
उपाध्याय ने कहा है कि वे इसका अध्ययन करें, समझें और इसकी शिक्षाओं को ग्रहण करें। लेकिन अगर कुछ समझ न आए तो वे उन्हें फोन करें। पेशे से एक वकील दिल्ली भाजपा प्रवक्ता अश्विनी उपाध्याय ने कहा कि भगवान राम भारत के प्राण हैं। उन्हें समझे बिना न तो भारतीयता समझी जा सकती है और न ही भारतीय जनमानस को समझा जा सकता है, इसीलिए उन्होंने ममता बनर्जी को रामचरितमानस की प्रति भेजी है, जिससे वे राम को समझ सकें। इससे वे शिक्षा ग्रहण करेंऔर जनता के साथ मधुरता से पेश आएं। कुछ अन्य लोगों ने भी ममता बनर्जी को 'जय श्रीरामÓ लिखे पोस्टकार्ड भेजने की शुरुआत की थी। दावा किया गया था कि ममता बनर्जी को 'जय श्रीरामÓ का महत्व समझाने के लिए पूरे देश से दस लाख जय श्रीराम लिखे पोस्टकार्ड भेजे जाएंगे।दरअसल, शुक्रवार को ममता बनर्जी का एक वीडियो वायरल हुआ था, जिसमें भीड़ के कुछ लोगों के द्वारा जय श्रीराम का नारा लगाने पर वे नाराज होती दिखाई पड़ी थीं। बाद में यह विवाद काफी बढ़ गया था और कुछ लोगों को गिरफ्तार भी कर लिया गया था। हालांकि, बाद में हिरासत में लिए गए युवकों को छोड़ दिया गया था। ममता बनर्जी ने दावा किया था कि वे किसी धर्म-सम्प्रदाय के विरोध में नहीं हैं। लेकिन कुछ लोग 'जय श्रीरामÓ का नारा लगाकर बंगाल का वातावरण खराब करना चाहते हैं। ममता का दावा था कि इस तरह की 'हरकतÓ करने वाले लोग बंगाल के स्थानीय नहीं हैं और बाहर से इन्हें केवल माहौल को खराब करने के लिए भेजा गया है।