मजबूत इंग्लैंड का सामना बेदम श्रीलंका से
   Date20-Jun-2019

लीड्स, 20 जून (वार्ता) विश्व की नंबर एक टीम और मेजबान इंग्लैंड का विश्वकप में शुक्रवार को मुकाबला टूर्नामेंट में अबतक अपनी छाप छोड़ पाने में नाकाम रही श्रीलंका से होगा।
इंग्लैंड के पांच मैचों में चार जीत और एक हार के साथ आठ अंक हैं और वह अंक तालिका में दूसरे पायदान पर है जबकि श्रीलंका की टीम पांच मैचों में एक जीत, दो हार और दो रद्द परिणाम के साथ फिलहाल छठे स्थान पर मौजूद है। श्रीलंका के खाते में चार अंक हैं। इंग्लैंड को एकमात्र हार पाकिस्तान के हाथों मिली है, वहीं श्रीलंका ने अपनी एकमात्र विजय टूर्नामेंट में निचले पायदान पर चल रही अफगानिस्तान के खिलाफ हासिल की थी। मेजबान इंग्लैंड की टीम शुरुआत से ही इस टूर्नामेंट में बेहतर प्रदर्शन कर रही है। उसने ओपनिंग मुकाबले में दक्षिण अफ्रीका को 104 रन के बड़े अंतर से पराजित किया था। लेकिन दूसरे मुकाबले में पाकिस्तान ने इस विश्वकप का पहला उलटफेर करते हुए इंग्लैंड की टीम को मात दी थी। हालांकि पाकिस्तान से मिली हार से सबक लेते हुए इंग्लिश टीम ने जबरदस्त वापसी की और लगातार तीन मुकाबले जीतकर उसने बता दिया कि वह टूर्नामेंट की प्रबल दावेदारों में से एक है। इंग्लैंड ने बंगलादेश, वेस्टइंडीज और अफगानिस्तान के खिलाफ बड़ी जीत हासिल की है। इंग्लैंड ने अफगानिस्तान के खिलाफ 150 रनों की बड़ी जीत दर्ज की थी। अगर विंडीज के साथ मुकाबले को छोड़ दिया जाए तो मेजबान टीम ने इस विश्वकप के अन्य मुकाबलों में पहाड़ जैसा स्कोर बनाया है।
इंग्लैंड ने हर बार 300 से ऊपर रन बनाए
इंग्लैंड ने दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ पहले मुकाबले में 311 रन, दूसरे मुकाबले में पाकिस्तान के 348 जैसे मजबूत स्कोर का पीछा करते हुए 334 रन, बंगलादेश के खिलाफ तीसरे मैच में पहले बल्लेबाजी करते हुए 386 रन और अफगानिस्तान के खिलाफ अपने पिछले मुकाबले में 397 रन का विशाल स्कोर बनाकर उसने इस विश्वकप का सर्वश्रेष्ठ स्कोर बनाया था। इंग्लैंड की बल्लेबाजी किसी भी टीम के खिलाफ आग उगल रही है। उसकी टीम के सलामी बल्लेबाज से लेकर मध्यक्रम तक के बल्लेबाज एक ही लय में खेलते दिखे हैं। हालांकि जैसन रॉय के चोटिल होने के कारण उसे झटका जरुर लगा लेकिन उनके टीम में शामिल ना होने के बावजूद इंग्लैंड की बल्लेबाजी आक्रामक ही दिखी है। अफगानिस्तान के खिलाफ इंग्लैंड के कप्तान इयोन मोर्गन ने जिस अंदाज में बल्लेबाजी का नजारा पेश किया वह अपने आप में अद्भुत था। उन्होंने इस मुकाबले मेें ना सिर्फ बड़ी पारी खेली बल्कि कई पुराने रिकॉर्ड को ध्वस्त किया और एक पारी में 17 छक्के जड़कर विश्वकप में नया रिकॉर्ड स्थापित कर दिया। गेंदबाजी विभाग में भी इंग्लैंड की टीम कहीं पीछे नहीं रही है। इंग्लैंड के गेंदबाजों ने वेस्टइंडीज के खिलाफ घातक गेंदबाजी करते हुए विंडीज की पारी को लडख़ड़ा दिया और मुकाबले में कहीं भी अपने ऊपर हावी नहीं होने दिया।