रंगमंच के शिखर पुरुष गिरीश कर्नाड नहीं रहे
   Date10-Jun-2019

राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री आदि ने शोक व्यक्त किया
बेंगलुरु/ नई दिल्ली 10 जून (वा) ज्ञानपीठ पुरस्कार से सम्मानित प्रख्यात लेखक, नाटककार, अभिनेता एवं फिल्म निर्देशक गिरीश कर्नाड का सोमवार सुबह निधन हो गया। वह 81 वर्ष के थे और लंबे समय से श्वास संबंधी बीमारियों से पीडि़त थे।
कन्नड़ भाषा और भारतीय रंगमंच के क्षेत्र में उल्लेखनीय योगदान देने वाले श्री कनार्ड के निधन पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, सूचना प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर, केरल के मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन, भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी और माक्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी के अलावा देश के जाने माने रंगकर्मियों और रंग समीक्षकों ने भी गहरा शोक व्यक्त किया है और भारतीय रंगमंच के इतिहास की एक बड़ी क्षति बताया हैं। श्री कोविंद ने ट्विट कर कहा लेखक, अभिनेता और भारतीय रंगमंच के सशक्त हस्ताक्षर गिरीश कर्नाड के देहावसान के बारे में जानकर दुख हुआ है। उनके जाने से हमारे सांस्कृतिक जगत की अपूरणीय क्षति हुई है। उनके परिजनों और उनकी कला के अनगिनत प्रशंसकों के प्रति मेरी शोक-संवेदनाएं।
श्री मोदी ने ट्विटर पर लिखा, गिरीश कर्नाड को उनके बहुमुखी अभिनय के लिए हमेशा याद किया जाएगा। अपनी पसंद के मुद्दों पर उन्होंने पूरे उत्साह के साथ अपने विचार व्यक्त किए। उनके कार्य आने वाले वर्षों में भी लोकप्रिय बने रहेंगे। उनके निधन से दुखी हूं। ईश्वर उनकी आत्मा को शांति प्रदान करें। श्री जावड़ेकर ने ट्विट किया, भारतीय फिल्म कलाकार गिरीश कर्नाड के निधन से दुखी हूं। उनके परिजनों और प्रशंसकों के प्रति मेरी संवेदनाएं। केरल के मुख्यमंत्री पिनारायी विजयन तथा कांग्रेस सांसद शशि थरूर ने भी श्री कर्नाड के निधन पर शोक व्यक्त किया है।