सहकार
   Date21-May-2019
प्रेरणादीप
एक संत अपने शिष्यों सहित कहीं जा रहे थे। रात्रि में वे एक जगह ठहरे। देखता तो पास में केवल पांच रोटियां थीं, इतने से सबका पेट कैसे भरेगा? यह प्रश्न सामने था। यह समस्या उन्होंने सुनी तो कहा-'सारी रोटियां एक पात्र में टुकड़े-टुकड़े करके डाल दो। सभी लोग एक-एक टुकड़ा निकालकर खाते जाएं। सबको समान रूप से भोजन मिल जाएगा।Ó सबने श्रद्धापूर्वक गुरु आज्ञा मानी। सोचा, जितना सबके पेट में समान रूप से अन्न पहुंचे, वही ठीक है। भोजन प्रारंभ हुआ तो सबका पेट भर गया, टुकड़े हाथ में आते गए। शिष्य बोले-'यह गुरुदेव का चमत्कार है।Ó इस पर संत बोले-'यह तुम्हारे सद्भाव भरे सहकार का चमत्कार है। तुम स्वार्थ भरी छीना-झपटी करते तो यह संभव न होता। जहां सद्भाव भरा पारिवारिक सहकार होता है, वहां प्रभु का अयाचित सहयोग मिलता है।Ó