सपा-बसपा की दोस्ती का अंत 23 मई को - मोदी
   Date20-Apr-2019

एटा 20 अप्रैल (वार्ता) बहुजन समाज पार्टी (बसपा) सुप्रीमो मायावती के मैनपुरी में दिये गये 'कठिन फैसलाÓ वाले बयान पर कटाक्ष करते हुये प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा कि स्वार्थ की खातिर समाजवादी पार्टी (सपा) और बसपा की दोस्ती का अंत 23 मई होना निश्चित है जब देश की सुरक्षा और स्वाभिमान के लिये मतदाता भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) नीति राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) की पूर्ण बहुमत की सरकार के पक्ष में फैसला सुनायेंगे।
श्री मोदी ने यहां एक रामलीला मैदान में चुनावी जनसभा को संबोधित करते हुये कहा कि हवा का रूख बताता है कि चुनाव का नतीजा तय हो चुका है। दिल्ली में बैठे लोग कहते है कोई लहर नजर नही आ रही। एसी कमरों में बैठकर जनता जनार्दन के मिजाज को पहचाना नही जा सकता है। पहले दो चरणो के मतदान के बाद जो मोदी को गाली देते थे। उनका चेहरा लटक गया है। यह चुनाव निहित स्वार्थ की खातिर देश को धर्म और जाति के नाम पर बांटने वालो और देश के विकास का सपना देखने वालों के बीच है।
श्री मोदी ने कहा " सपा और बसपा के झंडे अलग है लेकिन नीयत एक जैसी है। सरकारें बदली लेकिन व्यापारी और किसानों को लूटने का काम एक जैसा होता था। बुआ (मायावती) और बबुआ (अखिलेश यादव) के शासनकाल में दलितों पर अत्याचार सबने देखा है। यह कौन करता था। उन्हे (मायावती) अपने कठिन फैसले की याद आ जायेगी। "
उन्होने कहा " सपा शासन के दौरान कानून व्यवस्था की स्थिति देश में चर्चा का विषय बनी हुयी थी। समाजवादी गुंडों ने गरीब मध्यम वर्ग की जमीन को कब्जाने का अभियान चलाया था। उसने कितनो का जीवन बेकार कर दिया है। सपा सरकार के शासनकाल में बेटियों का स्कूल जाना मुश्किल भरा होता था। ऐसे ही लोगों को आपके बीच लाकर खड़ा कर दिया है और मायावती उनका समथर्न कर रही है। वाकई यह कठिन फैसला है। बहन बेटियों पर आपत्तिजनक टिप्पणी करने वालों के लिये सत्ता की खातिर बसपा प्रमुख को वोट मांगना पड़ रहा है। मै फिर कहूंगा कि आपका फैसला बहुत कठिन है। "