दूसरे चरण में 61 फीसदी से अधिक मतदान
   Date18-Apr-2019

नई दिल्ली 18 अप्रैल (वा) लोकसभा चुनाव के दूसरे चरण में 95 सीटों के लिए हुए चुनाव में आज साढ़े पांच बजे तक करीब 61 फीसदी मतदाताओं ने अपने मताधिकार का इस्तेमाल किया। चुनाव आयोग द्वारा शाम पौने छह बजे जारी किए गए आंकड़ों के अुनसार 12 राज्यों एवं केन्द्र शासित प्रदेश की 95 सीटों के चुनाव में औसतन 61.12 प्रतिशत मतदान हुआ।
ओडि़शा में लोकसभा की सीटों के साथ विधानसभा की 35 सीटों के लिए भी वोट डाले गए। आयोग के अनुसार पश्चिम बंगाल में सबसे अधिक 75.27 फीसदी मतदान हुआ। मणिपुर में 74.69, असम में 73.32, पुड्डूचेरी में 72.0, छत्तीसगढ़ में 68.70, कर्नाटक में 61.80,तमिलनाडु में 61.52, बिहार में 58.14, उत्तर प्रदेश में 58.12, ओडिशा में 57.41 महाराष्ट्र में , 55.37 और जम्मू-कश्मीर में सबसे कम 43.37 फीसदी मत डाले गए।
पश्चिम बंगाल में पहले चरण के मतदान में भी 81 फीसदी से अधिक मतदाताओं ने अपने मताधिकार का इस्तेमाल किया था। मतदान सुबह सात बजे शुरू हुआ था और कुछ क्षेत्रों में सुरक्षा की दृष्टि से अपराह्न तीन बजे तक तथा कुछ में चार बजे तक ही वोट डालने का समय निश्चित था। कुछ सीटों पर शाम पांच बजे मतदान समाप्त हो गया जबकि कुछ पर 6 बजे तक मत डाले जाने थे। तमिलनाडु के मदुरै निर्वाचन क्षेत्र में रात 8 बजे तक वोट डाले जाएंगे। निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार दूसरे चरण में 13 राज्यों की 97 लोकसभा सीटों पर मतदान होना था। लेकिन, तमिलनाडु के वेल्लूर में आयकर छापे में 11 करोड़ रुपए से अधिक की नकदी बरामद होने के बाद मतदान रद्द कर दिया गया था। इसके अलावा त्रिपुरा में सुरक्षा व्यवस्था के मद्देनजर पूर्वी त्रिपुरा सीट पर चुनाव स्थगित कर दिया गया था और वहां तीसरे चरण में 23 अप्रैल को मतदान होगा।
दूसरे चरण में कुल 1596 प्रत्याशी चुनाव मैदान में हैं और करीब 15.5 करोड़ मतदाता हैं। इन सीटों के लिए एक लाख 80 हजार से अधिक मतदान केंद्र बनाए गए थे। इस चरण में पूर्व प्रधानमंत्री एच.डी. देवेगौड़ा, भाजपा नेता हेमामालिनी, द्रमुक नेता दयानिधि मारन, कांग्रेस के राजबब्बर, महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री अशोक चव्हाण तथा द्रमुक नेता कनिमोझी जैसे कई प्रमुख उम्मीदवार अपनी किस्मत आजमा रहे हैं। इस चरण में तमिलनाडु की 38 सीटों, कर्नाटक की 14, महाराष्ट्र की 10, उत्तर प्रदेश की आठ तथा बिहार, ओडिशा और असम की पांच-पांच, छत्तीसगढ़ और पश्चिम बंगाल की तीन-तीन, जम्मू-कश्मीर की दो तथा मणिपुर और पुड्डूचेरी की एक-एक सीट के लिए चुनाव हुआ।