विश्वकप टीम में 'नंबर 4Ó और एक्स फैक्टर पर होंगी निगाहें
   Date14-Apr-2019

मुंबई, 14 अप्रैल (वार्ता)
आईसीसी विश्वकप-2019 के लिये सोमवार को भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) अपनी टीम की घोषणा करेगा, लेकिन सभी की निगाहें क्रम में चौथे नंबर के खिलाड़ी पर लगी होंगी जिसके लिये कई दावेदार हैं।
मुख्य कोच रवि शास्त्री के मार्गदर्शन और विराट कोहली के नेतृत्व में बीसीसीआई के मुख्य चयनकर्ता एमएसके प्रसाद की अध्यक्षता वाली पांच सदस्यीय समिति मुंबई में बीसीसीआई के मुख्यालय में सोमवार को विश्वकप टीम का चयन करेगी। प्रसाद और भारतीय कप्तान विराट भी काफी पहले ही संकेत दे चुके हैं कि टीम इंडिया के मुख्य क्रम में बहुत बदलाव नहीं होंगे लेकिन एक या दो स्थानों को लेकर कुछ फेरबदल संभव है। ऐसे में माना जा रहा है कि आस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड के खिलाफ वनडे सीरीज़ में जिस भारतीय टीम ने हिस्सा लिया था मुख्य तौर पर उसी क्रम को विश्वकप टीम का हिस्सा बनाया जा सकता है। भारत ने आखिरी बार वर्ष 2011 में विश्वकप जीता था और 30 मई से इंग्लैंड एंड वेल्स में होने वाले आईसीसी टूर्नामेंट में वह एक बार फिर खिताब की प्रबल दावेदार होगी। हालांकि पिछले काफी समय से टीम संयोजन को लेकर चयनकर्ताओं में माथापच्ची चल रही है जबकि कप्तान विराट भी अलग अलग सीरीज़ में विभिन्न संयोजनों को लेकर प्रयोग कर चुके हैं जिनमें मध्यक्रम में चौथे नंबर पर बल्लेबाज़ को लेकर स्थिति अब भी साफ नहीं है।
धवन - रोहित का नाम ओपनिंग में पक्का
ओपनिंग में शिखर धवन और रोहित शर्मा का स्थान पक्का है और लोकेश राहुल को वैकल्पिक ओपनर चुना जा सकता है। राहुल ने इस आईपीएल में ओपनिंग में काफी अच्छा प्रदर्शन किया है। शिखर ने भी अपने पिछले मुकाबले में नाबाद 97 रन की शानदार पारी खेली थी। हालांकि मध्यक्रम में चौथे नंबर पर चयन काफी दिलचस्प होने वाला है। यही वह क्रम है जिसपर खेलते हुये युवराज सिंह ने 2011 के विश्वकप में यादगार प्रदर्शन किया था और भारत को खिताबी जीत दिलाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। यह क्रम पिछले कुछ समय में लगातार चर्चा का विषय रहा है। चौथे नंबर पर अंबाटी रायुडू टीम के सबसे सीनियर सदस्य महेंद्र सिंह धोनी यहां तक की लोकेश राहुल और युवा रिषभ पंत विकल्प हो सकते हैं। यह दिलचस्प है कि 2017 चैंपियंस ट्रॉफी के बाद से टीम प्रबंधन ने चौथे क्रम पर 11 बल्लेबाज़ों को उतारा है जिनमें अंबाटी रायुडू ने सर्वाधिक मैच खेले हैं। गत वर्ष विंडीज़ के साथ घरेलू सीरीज़ में भी रायुडू की इस क्रम पर भूमिका को कप्तान ने सराहा था। हालांकि पिछले काफी समय से रायुडू की फार्म संतोषजनक नहीं है। लेकिन आईपीएल में उन्होंने कुछ अच्छी पारियां खेली हैं।