सत्ता में फिर आने पर जल मसलों पर बनायेंगे 'जल शक्तिÓ मंत्रालय-मोदी
   Date13-Apr-2019

रामनाथपुरम (तमिलनाडु), 13 अप्रैल (वार्ता) प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा है कि 23 मई को एक बार फिर केंद्र में उनकी सरकार बनने पर जल से जुड़े तमाम मसलों को सुलझाने के लिए अलग से 'जल शक्तिÓ मंत्रालय का गठन किया जायेगा।
सत्रहवीं लोकसभा के लिए भाजपा अन्नाद्रमुक और अन्य गठबंधन उम्मीदवारों के पक्ष में प्रचार करने आए श्री मोदी ने शनिवार को कहा, हमारे मेहनतकश मछुआरे जीविका के लिए समुद्र पर निर्भर है। आपका चौकीदार मछुआरों के कल्याण के लिए बड़ा फैसले लेने में सक्षम है। केंद्र में 23 मई के बाद एक बार फिर मोदी सरकार बनने और उनके पदभार संभालने के बाद अलग से 'जल शक्तिÓ मंत्रालय का गठन किया जायेगा जो जल से जुड़े तमाम मसलों को देखेगा।" श्रीलंका से 1900 भारतीय मछुआरों को रिहा कराया गया। इनमें से कुद ऐसे हैं जो मृत्युदंड का सामना कर रहे थे।
उन्होंने वाराणसी से सांसद होने का जिक्र करते हुए कहा, मैं बनारस से सांसद हूं जिसने रामनाथपुरम को विश्वास और अध्यात्म के धागे में पिरोया है। रामनाथपुरम का उल्लेख करते हुए श्री मोदी ने कहा यहां से देश के पूर्व राष्ट्रपति दिवंगत ए. पी. जे. अब्दुल कलाम का जुड़ाव था। "डा. कलाम ने देश के लिए कई सपने देखे और आज यह हम सब का कर्तव्य है कि उन सपनों को पूरा कर देश को विकास की नयी बुलंदियों पर ले जाना है।ÓÓ
प्रधानमंत्री ने कहा कि इस क्षेत्र पर उनकी सरकार का जोर कनेक्टिविटी और पर्यटन रहा है। रामेश्वरम और धनुषकोडी के बीच रेल ट्रैक को डबल करने का काम तेजी से चल रहा है। सौ साल पुराना पमबन पुल को आधुनिक बना दिया गया है। कांग्रेस और उनके सहयोगियों पर हमला करते हुए श्री मोदी ने कहा जो देश को नहीं बचा सकते, वे कभी भी राष्ट्र का विकास नहीं कर सकते। कांग्रेस और उनके सहयोगी जब सत्ता में थे, देश पर आतंकवादी एक शहर से दूसरे शहर पर लगातार हमला और विस्फोट करते रहते थे। अब समय बदल गया है। देश अब एक भी आतंकवादी अथवा जिहादी को छोडऩे वाला नहीं है।