11 अप्रैल से शुरू होगा लोकतंत्र का महापर्व, 23 मई को आयेंगे नतीजे
   Date11-Mar-2019
नई दिल्ली। लोकसभा चुनाव 2019 का चुनावी बिगुल बज चुका है। चुनाव आयोग ने रविवार शाम हुई प्रेस कांफ्रेंस में स्पष्ट कर दिया कि देश में आम चुनाव सात चरणों में संपन्न होंगे। 19 मई को मतगणना के साथ ही देश में नई सरकार तय हो जाएगी। इसके साथ ही आयोग ने चुनावी आचार संहिता को लेकर भी महत्वपूर्ण निर्देश जारी किया है।

 
इस बार सात चरणों में मतदान होंगे। ये तारीखें हैं- 11 अप्रैल, 18 अप्रैल, 23 अप्रैल, 29 अप्रैल, 6 मई, 12 मई और 19 मई। सातों चरण के मतदान के बाद 23 मई को मतगणना होगी। 22 राज्य राज्यों में एक चरण में चुनाव होंगे, जिसमें आंध्र प्रदेश, अरुणाचल प्रदेश, गोवा, गुजरात, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश, केरल, मेघालय, मिजोरम, नागालैंड, पंजाब, सिक्किम, तेलंगाना, तमिलनाडु, उत्तराखंड, अंडमान निकोबार, दादरा और नगर हवेली, दमन और दीव, लक्षद्वीप, दिल्ली, पुड्डुचेरी और चंडीगढ़ शामिल है. 2 चरण में कर्नाटक, मणिपुर, राजस्थान और त्रिपुरा में चुनाव होगा, 3 चरणों में जाने वाले राज्य असम छत्तीसगढ़ में दो चरण में चुनाव होंगे वहीं. झारखंड, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, ओडिशा में 4 चरणों में चुनाव होंगे. जम्मू और कश्मीर है में पांच चरणों में चुनाव होगा. वहीं बिहार, उत्तर प्रदेश और पश्चिम बंगाल में 7 चरणों में मतदान होगा.
मुख्य चुनाव आयुक्त ने कहा कि चुनाव का कार्यक्रम बनाते समय, परीक्षा कार्यक्रमों और त्योहारों का ध्यान भी रखा गया है। चुनाव में 90 करोड़ लोग अपने मताधिकार का इस्तेमाल करेंगे। करीब डेढ़ करोड़ वोटर 18-19 आयु वर्ग के होंगे। वोट डाले जाने के लिए पहचान पत्र के लिए 11 विकल्प रखे गए हैं। मतदाता सूची एक बार प्रकाशित होने के बाद उसमें से नाम नहीं वापस लिया जा सकेगा। 1950 नंबर डायल कर वोटर लिस्ट संबंधित जानकारी ले सकेंगे। इस बार देश में 10 लाख मतदान केंद्र बनाए जाएंगे। 2014 में 9 लाख मतदान केंद्र बनाए गए थे। हर मतदान केंद्र पर ईवीएम के साथ वीवीपैट का भी इस्तेमाल होगा। ईवीएम की सुरक्षा को लेकर कड़े इंतजाम किए जाएंगे। ईवीएम की जीपीएस ट्रैकिंग होगी। 2018 में हुए विधानसभा चुनाव में कुछ बदइंतजामी को देखते हुए कुछ नए दिशानिर्देश बनाए गए हैं।
चुनावी आचार संहिता के तहत रात 10 से सुबह 6 बजे तक लाउडस्पीकर का इस्तेमाल प्रतिबंधित रहेगा। मतदान से 48 घंटे पहले लाउडस्पीकर का इस्तेमाल पूरी तरह प्रतिबंधित रहेगा। मौजूदा लोकसभा का कार्यकाल तीन जून को समाप्त होगा। चुनाव कार्यक्रम की घोषणा होते ही आदर्श आचार संहिता लागू हो गई है। आचार संहिता लागू होने के बाद सरकार नीतिगत निर्णय नहीं ले सकेगी। ईवीएम पर उम्मीदवार की तस्वीर होगी। मतदान से 5 दिन पहले वोटर स्लिप मिल सकेगी। दिव्यांगों के लिए विशेष एप की सुविधा ताकि मतदान के दिन वो परेशान न हों। कम्यूनिटी रेडियो के जरिए जागरुकता फैलाई जाएगी।
सी-विजिल एप के जरिए आम आदमी आचार संहिता के उल्लंघन की रिपोर्टिंग कर सकेगा। शिकायत के 100 मिनट के भीतर संबंधित अधिकारी जवाब देंगे। चुनाव आयोग ने चुनाव में मीडिया से सकारात्मक भूमिका की अपील की है। कहा है कि पेड न्यूज पर होगी सख्त कार्रवाई होगी।