शिवसेना-एनसीपी-कांग्रेस के 162 विधायकों की होटल में परेड
    Date25-Nov-2019


नई दिल्ली द्य 25 नवम्बर (वा)
उच्चतम न्यायालय महाराष्ट्र में राज्यपाल द्वारा भाजपा को सरकार बनाने के लिए आमंत्रित करने के फैसले के खिलाफ शिवसेना, (राकांपा) और कांग्रेस की याचिका पर मंगलवार को आदेश सुनाएगा। उधर सोमवार शाम को शिवसेना, राकांपा और कांग्रेस की 'महा विकास आघाडीÓ ने मुंबई के एक पांच सितारा होटल में सोमवार की शाम को अपने 162 विधायकों की 'परेडÓ कराने का निर्णय किया है। तीनों दलों के नेताओं ने महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी से मुलाकात कर सरकार बनाने के लिए आवश्यक संख्या बल होने का दावा करने के बाद इसकी घोषणा की। न्यायमूर्ति एन.वी. रमन, न्यायमूर्ति अशोक भूषण और
यायमूर्ति संजीव खन्ना की विशेष पीठ ने सोमवार को लगातार दूसरे दिन सभी संबद्ध पक्षों की दलीलें सुनने के बाद फैसला सुरक्षित रख लिया। न्यायमूर्ति रमन ने कहा- हम कल सुबह साढ़े दस बजे इस पर अपना आदेश देंगे। शीर्ष अदालत ने रविवार को एक विशेष सुनवाई में श्री फडनवीस और महाराष्ट्र के राज्यपाल के बीच पत्राचार के दस्तावेज आज सुबह 10.30 बजे पेश करने के केंद्र को निर्देश दिए थे। सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने सोमवार को विशेष पीठ को वे दोनों पत्र सौंपे, जिसके जरिए राज्यपाल ने श्री फडनवीस को सरकार बनाने के किए आमंत्रित किया था और भाजपा नेता ने अपने पास विधायकों के समर्थन का दावा किया था। श्री मेहता ने दलील दी कि राकांपा नेता अजीत पवार द्वारा 22 नवम्बर को राज्यपाल को सौंपे गए पत्र में उन्होंने राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के पूरे 54 विधायकों के समर्थन का वादा किया था। पत्र में उल्लेख किया गया था कि वह राकांपा विधायक दल के प्रमुख हैं। श्री मेहता ने राज्यपाल को श्री फडनवीस द्वारा भेजे गए पत्र को पढ़ा, जिसमें स्वीकार किया गया कि उनके पास 54 राकांपा विधायकों सहित 170 विधायकों का समर्थन था। उन्होंने कहा- राज्यपाल ने उनके सामने प्रस्तुत सामग्री के आधार पर कार्रवाई की। अदालत उनके विवेक पर सवाल नहीं उठा सकती। उन्होंने शुरुआत में ही स्पष्ट कर दिया था कि वे राज्यपाल के सचिव के लिए पेश हो रहे हैं, क्योंकि राज्यपाल को न्यायिक कार्रवाई में एक पार्टी के रूप में नहीं बुलाया जा सकता है।
अजीत पवार को वापस लाने के प्रयास जारी - महाराष्ट्र में जारी राजनीतिक उठापटक के बीच राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) के वरिष्ठ नेता छगन भुजबल, दिलीप वल्से पाटिल और सुनील तत्करे ने सोमवार को राज्य के उपमुख्यमंत्री और पार्टी के बागी नेता अजीत पवार से यहां विधान भवन में मुलाकात की। इन नेताओं की श्री पवार के साथ मुलाकात चार घंटे तक चली, लेकिन बैठक के बाद किसी ने भी पत्रकारों को इसके बारे में कोई जानकारी नहीं दी।