शमी और जडेजा के कहर से जीता भारत
   Date06-Oct-2019

 
शमी ने लिए 5 व जडेजा ने 3 विकेट, 203 रन के बड़े अंतर से जीता भारत, सीरीज में 1-0 की बढ़त
विशाखापत्तनम, 06 अक्टूबर (वार्ता) तेज गेंदबाज मोहम्मद शमी (35 रन पर पांच विकेट) और लेफ्ट आर्म स्पिनर रवींद्र जडेजा (87 रन पर चार विकेट) की कहर बरपाती गेंदों से भारत ने दक्षिण अफ्रीका को पांचवें और अंतिम दिन रविवार को 191 रन पर ढेर कर पहला टेस्ट 203 रन के बड़े अंतर से जीत लिया। भारत ने इस जीत के साथ तीन मैचों की सीरीज में 1-0 की बढ़त बना ली।
भारत ने दक्षिण अफ्रीका के सामने जीत के लिए 395 रन का लक्ष्य रखा था। दक्षिण अफ्रीका ने कल के एक विकेट पर 11 रन से आगे खेलना शुरू किया और उसकी दूसरी पारी 63.5 ओवर में 191 रन पर सिमट गयी। भारत की दोनों पारियों में 176 और 127 रन बनाने वाले ओपनर रोहित शर्मा को मैन ऑफ द मैच का पुरस्कार दिया गया। पहली पारी में खाली हाथ रहे शमी ने दूसरी पारी में शानदार गेंदबाजी की और 10.5 ओवर में 35 रन पर पांच विकेट हासिल किये। जडेजा ने भी बेहतरीन प्रदर्शन किया और 25 ओवर 87 रन पर चार विकेट लिए। पहली पारी में सात विकेट लेने वाले ऑफ स्पिनर रविचंद्रन अश्विन ने 20 ओवर में 44 रन पर एक विकेट लिया।
लगातार तीसरी जीत
भारत की विश्व टेस्ट चैंपियनशिप में यह लगातार तीसरी जीत है। भारत ने इससे पहले वेस्ट इंडीज में दोनों टेस्ट जीते थे। भारत के अब तालिका में उसके 160 अंक हो गए हैं। दक्षिण अफ्रीका का विश्व टेस्ट चैंपियनशिप में यह पहला टेस्ट था और उसकी इस चैंपियनशिप में हार के साथ शुरुआत हुई है। टीम इंडिया ने 7 विकेट पर 502 रन बनाकर अपनी पहली पारी घोषित की थी। दक्षिण अफ्रीका ने अपनी पहली पारी में 431 रन बनाये थे।भारत को पहली पारी के आधार पर 71 रनों की बढ़त मिली और भारत ने अपनी दूसरी पारी 4 विकेट पर 323 रन पर घोषित कर दक्षिण अफ्रीका के सामने 395 रनों का लक्ष्य रखा।
191 पर द. अफ्रीका ढेर
पहली पारी में सराहनीय संघर्ष करने वाले दक्षिण अफ्रीका के बल्लेबाज दूसरी पारी में घुटने टेक गए और पूरी टीम 191 रनों पर ढेर हो गई और भारत ने यह मुकाबला 203 रनों से जीत लिया। दक्षिण अफ्रीका के लिए 10वें नंबर के बल्लेबाज डेन पिएट ने 107 गेंदों पर नौ चौकों और एक छक्के की मदद से सर्वाधिक 56 रन बनाये। सेनुरन मुथुसामी ने 108 गेंदों पर पांच चौकों की मदद से नाबाद 49 रनों का योगदान दिया। मुथुसामी पहली पारी में भी 33 रन बनाकर नाबाद रहे थे। दक्षिण अफ्रीका के चार बल्लेबाज बिना खाता खोले आउट हुए। एक समय दक्षिण अफ्रीका के आठ बल्लेबाज 27वें ओवर तक मात्र 70 रन पर पवेलियन लौट चुके थे लेकिन मुथुसामी और पिएट ने नौंवें विकेट के लिए 91 तथा मुथुसामी और कैगिसो रबादा ने 10वें विकेट के लिए 30 रन जोड़कर दक्षिण अफ्रीका को बड़ी शर्मिंदगी से कुछ हद तक बचा लिया।