सफलता का सूत्र है सकारात्मक सोच
   Date05-Oct-2019

धर्मधारा
जब कभी कोई समस्या उत्पन्न होती है तो इसके प्रति सभी की समान प्रतिक्रिया नहीं होती। कुछ लोग इसके प्रति रिऐक्ट करते हैं तो कुछ रिस्पॉन्ड। रिऐक्ट एक नकारात्मक प्रतिक्रिया है, जबकि रिस्पॉन्ड एक सकारात्मक प्रतिक्रिया है। कई बार व्यक्ति समस्या को जाने बिना ही तुरंत रिऐक्ट करने लग जाता है, जैसे घबराना, परेशान होना, चिड़चिड़ाना, दोषारोपण करना, चिल्लाना, निंदा करना, नकारात्मक परिणामों के बारे में समस्या और उसके कारणों के बारे में जानना और उन्हें सुुलझाने का प्रयास रिस्पॉन्ड करना कहलाता है। यदि हम समस्या को सुलझाना चाहते हैं, उस पर विजय पाना चाहते हैं तो हमें अपनी प्रतिक्रिया को नियंत्रित करना होगा। समस्या को जाने-समझे बिना रिऐक्ट करने से समस्या और भी जटिल हो जाती है। यदि समस्या को सुलझाना है तो हमें त्वरित प्रतिक्रिया करने की आदत को छोडऩा होगा और समस्या को जानने व समझने के लिए समय देना होगा, क्योंकि हर समस्या में ही उसका समाधान छिपा होता है। जब व्यक्ति रिऐक्ट करता है तो उसका पूरा ध्यान सिर्फ समस्या एवं उसके नकारात्मक परिणामों पर होता है, इसलिए वह समस्या को और अधिक जटिल बना देता है। परंतु यदि हमें समस्या को सुलझाना है, उससे बाहर निकलना है तो हमें अपना ध्यान उसके विकल्पों अर्थात समाधानों पर केंद्रित करना होगा। एक बार महात्मा बुद्ध शिष्यों के साथ यात्रा कर रहे थे। एक झील देखकर वे वहां रुके। अपने दो शिष्यों से बुद्ध ने कहा-'मुझे प्यास लग रही है, झील से पानी ले आओ।Ó दोनों शिष्य झील तक गए। तभी एक बैलगाड़ी झील में उतरकर उस पार जाने लगी। इससे पानी मटमैला हो गया। एक शिष्य तुरंत लौट आया और बुद्ध से बोला 'पानी गंदा है और आपके पीने लायक नहीं है।Ó जबकि दूसरा शिष्य चुपचाप वहीं झील के पास ही बैठ गया। कुछ समय बाद वह साफ पानी लेकर बुद्ध के पास पहुंचा, तो वे बोले-'तुमने पानी को साफ करने के लिए क्या किया?Ó तो दूसरे शिष्य ने कहा-'कुछ नहीं, सिर्फ समय दिया, मिट्टी अपने आप जम गई और मुझे साफ पानी मिल गया।Ó इसी तरह जब हम विचलित होते हैं तो समस्या को जाने-समझे बिना ही त्वरित रिऐक्ट करने लग जाते हैं, जिससे समस्या और भी जटिल हो जाती है। यदि हम शांत रहकर समस्या के कारणों को जानने का प्रयास करें तो हमें उसका समाधान भी मिल जाता है। उपरोक्त घटनाक्रम में दोनों शिष्यों के पास समान समस्या थी, किंतु एक ने समस्या के प्रति रिऐक्ट किया, क्योंकि उसका ध्यान सिर्फ समस्या पर था। इसलिए वह पानी लाने में असफल रहा।