आयुष्मान भारत योजना एक क्रांति
   Date02-Oct-2019

नई दिल्ली   1 अक्टूबर (वा)
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने मंगलवार को कहा कि आयुष्मान भारत योजना एक क्रांति, समर्पण और आपस में सीखने के बारे में है तथा हम अपने संकल्प से ही विश्व की इस बड़ी योजना को भारत में सफलतापूर्वक चला रहे हैं।
श्री नरेंद्र मोदी ने यहां आयुष्मान भारत योजना के एक वर्ष पूरा होने के उपलक्ष्य में राष्ट्रीय स्वास्थ्य प्राधिकरण द्वारा दो दिवसीय आरोग्य मंथन कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि इस कार्यक्रम की सफलता के पीछे समर्पण की भावना है और यह प्रतिबद्धता देश के हर राज्य और संघ शासित प्रदेश से जुड़ी है। उन्होंने कहा कि अगर पिछले वर्ष में किसी एक भी व्यक्ति की जमीन, मकान, आभूषण अथवा कोई अन्य सामग्री चिकित्सा उपचारों पर होने वाले खर्च की वजह से किसी के यहां गिरवी रखे जाने से बची है तो यह आयुष्मान भारत की बड़ी सफलता है। देश के लाखों गरीब लोगों के बीच बीमारियों से मुक्त होने की उम्मीद जगाना एक बहुत बड़ी उपलब्धि है।
उन्होंने कहा कि पिछले एक वर्ष में लगभग पचास हजार गरीब लोगों ने प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना के तहत अपने जिले अथवा राज्य के बाहर चिकित्सा सुविधा के लाभ लिए हैं और यह नए भारत के क्रांतिकारी कदमों में से एक है। यह न केवल आम आदमी का जीवन बचाने में एक अहम भूमिका निभा रही है, बल्कि देश की 130 करोड़ जनता की शक्ति और समर्पण का भी प्रतीक है। श्री मोदी ने कहा कि आयुष्मान भारत पूरे भारत के लिए एक सामूहिक और स्वस्थ भारत के लिए समग्र समाधान है और यह भारत सरकार की उस सोच का विस्तार है, जिसमें हम भारत की समस्याओं और चुनौतियों को टुकड़ों में न विभाजित करके समग्रता के तौर पर ले रहे हैं। आयुष्मान भारत देश के किसी भी हिस्से में मरीजों को बेहतर उपचार सुनिश्चित करता है।