अयोध्या में 50-60 मस्जिद, मुसलमान कहीं भी नमाज पढ़ सकते हैं- हिन्दू पक्ष
   Date16-Oct-2019


नई दिल्ली   15 अक्टूबर (वा)
उच्चतम न्यायालय में अयोध्या विवाद की आज 39वें दिन की सुनवाई के दौरान हिंदू पक्ष ने कहा कि अयोध्या में 50 से 60 मस्जिद हैं तथा मुस्लिम कहीं और भी जाकर नमाज पढ़ सकते हैं।
मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई, न्यायमूर्ति एसए बोबड़े, न्यायमूर्ति डीवाई चंद्रचूड़, न्यायमूर्ति अशोक भूषण तथा न्यायमूर्ति एस. अब्दुल नजीर की संविधान पीठ के समक्ष हिन्दू पक्ष के वकील के परासरण ने दलील दी कि अयोध्या में 50-60 मस्जिद हैं और नमाज कहीं भी अदा की जा सकती है, लेकिन यह राम का जन्म स्थान है, इसे बदला नहीं जा सकता। श्री परासरण ने अपनी दलील में कहा कि किसी को भी भारत के इतिहास को तबाह करने की अनुमति नहीं दी जा सकती है। न्यायालय को इतिहास की गलती को ठीक करना चाहिए। एक विदेशी भारत में आकर अपने कानून लागू नहीं कर सकता है। उन्होंने अपनी दलील की शुरुआत भारत के इतिहास के साथ की। न्यायालय के निर्देश के बाद वकील वी.पी. शर्मा ने लिखित दलील के साथ कुरान के अंग्रेजी अनुवाद की कॉपी रजिस्ट्री को सौंपी। इसके साथ ही हिंदू और सिख धर्म ग्रंथ भी रजिस्ट्री को सौंपे जाएंगे।
हिंदू पक्ष ने दस्तावेज
देने की प्रार्थना की
हिंदू पक्षकार की ओर से वकील ने मंदिर के सबूत के तौर पर कुछ दस्तावेज़ संविधान पीठ को देने की गुजारिश की है। अदालत की ओर से दस्तावेज़ रजिस्ट्री को देने को कहा गया है। हिंदू पक्षकार महंत रामचंद्रदास के शिष्य सुरेशदास की ओर से वकील श्री परासरण अपनी दलीलें दे रहे हैं। हिंदू पक्ष की ओर से निर्मोही अखाड़ा बुधवार को अपनी दलील रखेगा। निर्मोही अखाड़े के वकील सुशील जैन की मां की मृत्यु हो जाने के कारण वह अदालत नहीं पहुंच सके।
अयोध्या में बढ़ाई सुरक्षा
राम जन्मभूमि मामले में सुनवाई पूरी होने को है और इसे देखते हुए अयोध्या में सुरक्षा बढ़ा दी गई है। यहां धारा 144 लागू करने के साथ ही सुरक्षा भी बढ़ाई जा रही है। सुप्रीम कोर्ट का फैसला आने से पहले अयोध्या व आसपास के जिलों की सीमाओं पर पहरा कड़ा कर दिया जाएगा। हालांकि अधिकारियों का कहना है कि अतिरिक्त पुलिस बल की तैनाती दीपोत्सव के दृष्टिगत की जा रही है।