सनातन हिन्दू राष्ट्र है भारत
   Date10-Oct-2019

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के स्थापना दिवस विजयादशमी पर नागपुर में स्वयंसेवकों के बीच सरसंघचालकजी का उद्बोधन होता है। इस अधिकृत उद्बोधन से संघ की कार्य दिशा और विचार से लोगों को जानकारी मिलती है। संघ दुनिया का सबसे बड़ा सामाजिक संगठन है, भाजपा में भी संघ के स्वयंसेवक सक्रिय है, केन्द्र और सत्रह राज्यों में भाजपा का शासन है, राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी, उपराष्ट्रपति और मुख्यमंत्री संघ के स्वयंसेवक है, इसलिए संघ को जानने की जिज्ञासा लोगों की है। प्रासंगिक विजय पर भी संघ के विचार क्या है, इस बारे में भी विजयादशमी पर सरसंघचालकजी के उद्बोधन से जानकारी मिल जाती है। 2019 की विजयादशमी पर सरसंघचालक मोहनजी भागवत ने कहा कि भारत हिन्दुस्तान या हिन्दू राष्ट्र है, उन्होंने कहा कि देश की प्रतिष्ठा बढ़ाने और विविधताओं का सम्मान करने वाला हिन्दू है। संघ का मानना है कि भारत के मुस्लिमों के पूर्वज भी हिन्दू थे, इसलिए उनका रक्त संबंध भी हिन्दू है। जिनका सरोकार भारत की संस्कृति परम्परा और आदर्शों से है, वे सब हिन्दू है। उन्होंने लिचिंग के बारे में कहा कि इसका प्रयोग हिन्दू समाज को बदनाम करने के लिए किया जाता है। हम लिचिंग के खिलाफ कानून बनाने के पक्ष में है। भागवतजी ने कहा कि नई पीढ़ी में आत्म गौरव की अनुभूति कराने के लिए शिक्षा पद्धति में बदलाव की जरूरत है। संस्कारों के क्षरण और जीवन मूल्यों में गिरावट पर चिंता व्यक्त करते हुए भागवतजी ने कहा कि नारी सम्मान की परम्परा वाले देश में महिलाओं की असुरक्षा लज्जा का विषय है। मातृशक्ति को सशक्त बनाने एवं पुरुष दृष्टि में बदलाव की जरूरत है। उन्होंने अनुच्छेद 370 को हटाने के साहसिक निर्णय के लिए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और गृहमंत्री अमित शाह की सराहना करते हुए कहा कि कश्मीरी हिन्दू पंडितों का पुनर्वास होना चाहिए। उन्होंने कहा कि 2014 में सत्ता परिवर्तन तत्कालीन सरकार से मोहभंग से हुआ था, लेकिन 2019 का जनादेश मोदी सरकार के कार्य, साहसिक निर्णय और नई अपेक्षाओं का परिणाम है। उन्होंने कहा कि भारत पहले से अधिक सुरक्षित है। भागवतजी ने चंद्रयान 2 का उल्लेख करते हुए कहा कि हम चांद तक पहुंचने में सफल हुए। इसी तरह लोकतंत्र के बारे में कहा कि लोकतंत्र हमारी सदियों की परम्परा का हिस्सा है। सरसंघचालक ने शांति और सौहार्द बढ़ाने की चर्चा की। सरसंघचालकजी का उद्बोधन भारत की संस्कृति, परम्परा और हिन्दू राष्ट्र पर केन्द्रित था। भारत की पहचान हिन्दू से होती है। संस्कृति परम्परा और जीवन मूल्य हिन्दुत्व से प्रेरित है, इसलिए यह हिन्दू राष्ट्र है। राजनीतिक व्यवस्था से इस पहचान को नकारा नहीं जा सकता। अनुच्छेद 370 हटाना भारत की अखंडता के लिए जरूरी था। संघ भारतमाता के अखंड स्वरूप की वंदना करता है, प्रारंभ से ही संघ के स्वयंसेवक अनुच्छेद 370 को हटाने के पक्ष में रहे और इसके लिए जनसंघ के माध्यम से आंदोलन भी हुआ। मोदी सरकार ने इस बारे में जिस दृढ़ता का परिचय दिया, उसका समर्थन पूरा देश कर रहा है। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने संयुक्त राष्ट्र में संघ को बदनाम करने की कोशिश की, इसकी निंदा करते हुए भागवतजी ने कहा कि ऐसी देशी-विदेशी ताकतें है जो भेदभाव पैदा कर आपस में झगड़े पैदा कराना चाहती है। ऐसे षड्यंत्र चल रहे हैं। संघ के चिंतन और कार्य के केन्द्र में राष्ट्रहित रहता है। जिस राष्ट्रवाद के विचारों के साथ देश की जनता खड़ी है, उसका आधार हिन्दुत्व है।
दृष्टिकोण
राफेल की आंधी शक्ति भारत में
शक्ति की देवी माँ दुर्गा की पूजा उपासना के बाद विजयादशमी पर्व आता है। इस पर्व पर श पूजन की परम्परा है। आसुरी शक्ति के प्रतीक रावण का विनाश श्रीराम ने किया था, उसी परम्परा के अनुरूप प्रतीक के रूप में रावण की आकृति बनाकर उसे जलाया जाता है। शक्ति की पूजा का इस वर्ष नया स्वरूप दिखाई दिया। सुरक्षा मंत्री राजनाथसिंह ने फ्रांस में सबसे अधिक मारक क्षमता के लड़ाकू विमान राफेल का पूजन किया। इस विमान से राजनाथसिंह भारत आए। फ्रांस से दिल्ली की दूरी राफेल ने केवल 28 मिनिट में पूरी की। राफेल से वायुसेना की शक्ति काफी बढ़ गई है। विजयादशमी का दिन ही वायुसेना का स्थापना दिवस था, इसी दिन पहला राफेल विमान भारत को प्राप्त हुआ। ऐसा लगा कि शक्ति की देवी का प्रवेश भारत में हुआ है। बताया गया कि मई 2020 तक चार और राफेल विमान भारत को मिलेंगे। कुल 36 राफेल विमान भारत को प्राप्त होंगे। ऐसी स्थिति में भारत की वायु सेना शक्ति कई गुना बढ़ जाएगी। विडंबना यह है कि कांग्रेस ने राफेल खरीदी को लेकर मोदी सरकार को घेरने का प्रयास किया था। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने इन आरोपों की परवाह किए बिना राफेल के करार पर दृढ़ रहे। इसका परिणाम है कि राफेल का पहला विमान वायु सेना को मिल गया है। राफेल की विशेषता है कि यह भारत से ही पाकिस्तान के प्रमुख ठीकानों को मिसाइल से नष्ट कर सकता है। राफेल का हिन्दी अर्थ है आंधी।